Sunday, May 31, 2009

चाहती हूं जीना एक दिन - आर. अनुराधा


आर. अनुराधा एक बेहतरीन इंसान है। मेरे एक कार्यक्रम के दौरान मेरी उनसे मुलाक़ात हुई थी। वैसे उनकी लेखनी से मैं पहले से परिचित थी। कैंसर से दो बार जीत चुकी अनुराधा अपने स्तर पर बहुत सराहनीय काम कर रही है। चाहती हूँ जीना एक दिन ये कविता उन्होंने अपनी बीमारी के दौरान हुए अनुभवों पर लिखी है। ये मैं उनकी अनुमति से उनके ब्लॉग से कॉपी करके यहाँ पोस्ट कर रही हूँ। आप भी इसे पढ़े...
-दीप्ति




"चाहती हूं जीना एक दिन"
- आर. अनुराधा

जिंदगी उतनी लंबी होती है, जितनी आदमी जी लेता है।

उतनी नहीं जितनी आदमी जिंदा रह लेता है।

कोई एक में कई जिंदगियां जी लेता है तो कोई एक दिन भी नहीं जी पाता।

मैं जीना चाहती हूं। एक दिन में कई दिन- चाहती हूं जीना ऐसा एक दिन।

एक शाम- जब मैं जा सकूं साथी के साथ

सान्ता मोनिका पर नए साल के स्वागत के लिए।

कोई दिन- बिना दर्द, जलन, तकलीफ के।

एक दिन- जब मेरे हाथ में हो दिलचस्प किताब,

पास बजता हो मीठा संगीत और साथ हो अच्छा खाना।

दो दिन- जब मैं नताशा के साथ फुर्सत से बैठकर गपशप कर सकूं

बैठे-बैठे उसकी बिटिया को अपनी गोद में सुला सकूं।

दस दिन- जब मैं किसी बच्चे के साथ

जा सकूं एक छोटी सी पहाड़ी पर पर्वतारोहण के लिए।

एक महीना- जब मुझे अस्पताल या पैथोलॉजी लैब का

एक भी चक्कर न लगाना पड़े।

एक मौसम- जिसके हर दिन मैं पकाऊं कुछ नया, पहनूं कुछ नया

जो बनाए मुझे सदियों पुरानी परंपरा का हिस्सा।

एक साल- जिसमें लगा सकूं हर पखवाड़े एक

कैंसर जांच और जागरूकता कैंप दिल्ली भर में

पांच साल- बिना कैंसर की पुनरावृत्ति के।

एक जीवन- जब मैं परिवार और झुरमुटों-झरनों-जुगनुओं के बीच

रहूं दूर पहाड़ी पर कहीं।

मैं ये सारे दिन एक बार जीना चाहती हूं।

इजाजत है?

संदर्भ: पिछले ग्यारह साल से हर दिन मेरे लिए कुछ आशंकाएं लिए आता है। मई 1998 में पहली कार मुझे कैंसर होने का पता चला। पूरा इलाज कोई 11 महीने चला। इसके बाद लगातार फॉलो-अप, चेक-अप, ढेरों तरह की जांचें, तय समयों पर और कई बार बिना तय समयों पर भी, जब भी कैंसर के लौट आने की जरा भी आशंका हुई। उसके बाद सारे एहतियात के बाद भी मार्च 2005 में कैंसर का दोबारा उभरना। इन सबके बीच इन छोटी-छोटी मोहलतों की हसरत बनी हुई है, जिनमें से कुछेक पूरी हुईं भी, लेकिन उस इत्मीनान के साथ नहीं, जो मैं दिल से चाहती हूं। इसलिए जिंदगी से इजाजत मांगने का मन है कि क्या कभी हो पाएगा। और मुझे उम्मीद है कि होगा।

1 comment:

rohit said...

आमीन